बंगाल में जमकर हो रही हिंसा, चुनाव आयोग और भाजपा पर भड़की ममता

0

कोलकाता : पोलीसनामा ऑनलाईन – लोकसभा चुनाव के दौरान बंगाल में जमकर हिंसा हो रही है। इससे रोकने के लिए अब चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। दरअसल आयोग ने अंतिम चरण के मतदान के लिए निर्धारित अवधि से एक दिन पहले 16 मई को रात 10 बजे से चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया है। चुनाव आयोग के इस फैसले के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भड़क गई है।

ममता सीधे-सीधे चुनाव आयोग पर सवाल खड़ा की है। ममता बनर्जी ने कहा कि ‘चुनाव आयोग को कोलकाता की हिंसा के लिए अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी। पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की कोई समस्या नहीं है, अनुच्छेद 324 लगाना अप्रत्याशित, असंवैधानिक और अनैतिक है। इस तरह का चुनाव आयोग कभी नहीं देखा, इसमें आरएसएस के लोग भरे पड़े हैं। आयोग ने पीएम मोदी को अपनी दो रैलियां खत्म करने का समय दिया है।’ वहीं गृह सचिव को हटाने के फैसले पर बनर्जी ने कहा कि ‘गृह सचिव को हटाने का निर्देश चुनाव आयोग ने नहीं बल्कि नरेंद्र मादी और अमित शाह ने दिया है। बंगाल में अनुच्छेद 324 विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ने को लेकर मोदी और शाह के लिए चुनाव आयोग की ओर से उपहार है।’

आगे दीदी ने कहा कि ‘बंगाल के लोगों ने इसे गंभीरता से लिया है, अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। अमित शाह ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, चुनाव आयोग को धमकी दी, क्या ये उसी का नतीजा है? बंगाल डरा नहीं है। बंगाल को इसलिए निशाना बनाया गया क्योंकि मैं मोदी के खिलाफ बोल रही हूं। गुंडों को बाहर से लाया गया था, उन्होंने भगवा पहनकर हिंसा की, ऐसा ही हिंसा तब हुई थी जब बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किया गया था।’

बता दें कि बंगाल में अब तक जितने भी मतदान की चरण हुई है। हर चरण में यहां हिंसा हुई है। ये अलग बात है कि इस हिंसा को कभी टीएमसी बीजेपी का नाम दी है। तो कभी बीजेपी टीएमसी का नाम। बनर्जी अपनी भड़ास निकालते हुए ने कहा कि ‘इस घटना को बंगाल के लोग इसे हल्के में नहीं लेंगे, इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। मोदी को पता है कि उनके खिलाफ खड़ा व्यक्ति, उन्हें चुनौती देता है, मजबूत है, यही वजह है कि वह ये सब कर रहे हैं। मोदी बंगाल और मेरे लोगों से डरते हैं।’

You might also like