Income Tax ने किया ‘सावधान’ होने का इशारा ! अगर आया ‘यह’ SMS तो खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट

0

नई दिल्ली: पुलिसनामा ऑनलाइन – कस्टमर्स को धोखाधड़ी से बचाने के लिए इंकम टैक्स (IT) डिपार्टमेंट ने एक ट्वीट कर लोगों को फर्जी मैसेज भेजकर टैक्‍सपेयर से धोखाधड़ी करने वाले ठगों के बारे में आगाह किया है. इस सन्दर्भ में IT विभाग द्वारा एक एडवाइजरी भी जारी की गई है. जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया है कि, यदि आपको IT विभाग द्वारा अधिकृत होने का दावा करने वाला कोई भी व्यक्ति आपको SMS या e-mail करता है, तो आप इस पर विश्वास ना करें और नहीं किसी अज्ञात लिंक पर क्लिक करें, नहीं तो आपका बैंक अकाउंट खाली हो सकता है.

भेजी जा रही है इस तरह की फर्जी लिंक
बता दें कि IT विभाग ने खुलासा किया है IT विभाग के नाम पर बदमाश लोगों से उनकी जानकारी निकालकर, उन्हें अपने जाल में फंसाने का काम कर रहे है. विभाग के सामने एक लिंक भी सामने आया है जिसमें लिंक के जरिए टैक्स रिफंड की बात की गई है, जो की बिलकुल फर्जी है. यह लिंक इस प्रकार है-Url http://151.80.90.62/ITRefund . आयकर विभाग ने कहा कि कुछ टैक्‍सपेयर को यह फर्जी SMS और Email मिला है. उन्‍हें यह लिंक ओरिज्‍नल लग सकता है लेकिन इस पर क्लिक न करें. यह एक तरह से आप के लिए जाल बिछाया गया है.

IT डिपार्टमेंट द्वारा जारी एडवाइजरी के मुताबिक-

–    किसी SMS या e-mail पर क्लिक ना करें.

–    कोई अटैचमेंट न खोलें। इसमें कुछ खतरनाक कोड हो सकता है जो आपके कंप्यूटर को इन्फेक्ट कर सकता.

–    किसी भी लिंक पर क्लिक न करें। यदि आप एक संदिग्ध ई-मेल या फ़िशिंग वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करते हैं, तो बैंक खाते, क्रेडिट कार्ड विवरण जैसी गोपनीय जानकारी दर्ज न करें।

–    Do not cut and paste the link from the message into your browsers, phishers can make link look like real, but it actually send you to different websites.

–    ब्राउजर में दिए किसी भी लिंक को कॉपी, पेस्ट न करें.  फ़िशर्स लिंक को वास्तविक जैसा बना सकते हैं, जिसे आपको विभिन्न वेबसाइटों के जरिए भेजता है।

ध्यान रखने वाली कुछ और अहम बातें…
एंटी-वायरस सॉफ़्टवेयर, एंटी स्पाइवेयर और फ़ायरवॉल का उपयोग करें और उन्हें अपडेट रखें। कुछ फ़िशिंग ई-मेल में सॉफ़्टवेयर होते हैं जो आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा सकते हैं या आपकी जानकारी के बिना इंटरनेट पर आपकी गतिविधियों को ट्रैक कर सकते हैं। एंटी-वायरस और एंटी-स्पाइवेयर सॉफ़्टवेयर और फ़ायरवॉल आपको अनजाने में ऐसी अवांछित फ़ाइलों को स्वीकार करने से बचा सकते हैं।

टैक्‍सपेयर ने ट्वीट पर मंगा आईटी डिपार्टमेंट से जवाब
एक टैक्‍सपेयर ने को इस तरह का SMS मिला था, जो कि टैक्सपेयर को संदेहास्पद लगा. इसके बाद उन्होंने IT विभाग से संपर्क साधा और इस SMS को ट्विटर हैंडल पर शेयर किया. उन्होंने पूछा कि क्‍या यह SMS सही है? इस पर विभाग ने जवाब देते हुए कहा कि उनकी ओर से ऐसा कोई मैसेज नहीं भेजा जा रहा. यह पूरी तरह फर्जी है.

You might also like