मजदूर यूनियन के खिलाफ मकोका की कार्रवाई

0

पुणे। पुलिसनामा ऑनलाइन –यूनियन में शामिल होने के लिए मजदूरों को धमकाने और पैसे ऐंठने के आरोप तले हिंद कामगार संगठन के 12 सदस्यों के खिलाफ पुणे ग्रामीण पुलिस ने मकोका (महाराष्ट्र संगठित अपराध प्रतिबंध कानून) के तहत कार्रवाई की है। इससे मजदूर यूनियन क्षेत्र में खलबली मच गई है। पुलिस का कहना है कि इस यूनियन का सदस्य बनने के लिए रांजणगांव की एलजी कंपनी के मजदूरों को धमकाया गया और हर एक से 10- 10 हजार रुपए की फिरौती मांगी गई। इस बारे में रांजणगांव पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।

जिनके खिलाफ मकोका की कार्रवाई की गई है उनमें चारूदत्त मनोहर वैदय (39, निवासी शिक्रापूर, शिरूर, पुणे), मनोजकुमार कतवारू पाल (36, निवासी कालूबाई नगर, वाघोली, हवेली, पुणे), जीवन जयंत डंके (38, निवासी महाबलेश्वर नगर, साईनाथ कालोनी, शिक्रापूर, पुणे), विजय विठ्ठल मोकले (39, निवासी दुबेनगर, वाघोली, हवेली, पुणे), किशोर संतोष पाटिल (39, निवासी पेरणे फाटा, हवेली, पुणे), निलेश रमेश शेलार (37, निवासी गणेशनगर अव्हालवाडी रोड, वाघोली, हवेली, पुणे), सर्जेराव अंबाजी खरात (40, निवासी एस टी कालोनी, वाघोली, हवेली, पुणे), संतोष तुलशीराम खेडकर (39, निवासी दिनकर पठारबस्ती, चंदननगर, हवेली, पुणे), कैलास प्रेमलाल पटले (35, निवासी रायसोनी कॉलेज रोड, वाघोली, हवेली, पुणे), संदिप कुष्णराव देशमुख (38, निवासी तुलजा भवानी नगर, खराडी, पुणे), शिवाजी गुलाबराव राठोड (34, निवासी मलठन फाटा, शिक्रापूर, शिरूर, पुणे), अशोक देवप्पा धाडकर (37, निवासी पठारे ठुबे नगर, खराडी, पुणे) शामिल हैं।

पुलिस निरीक्षक मनोज यादव से मिली जानकारी के अनुसार, उपरोक्त आरोपियों ने रांजणगांव एमआईडीसी स्थित एलजी कंपनी के मजदूरों को कंपनी में हिंद कामगार संगठन की युनियन बनाने को लेकर दबाव बनाया। यही नहीं युनियन के अध्यक्ष कैलास कदम (निवासी खरालवाडी, पिंपरी) के कहने पर हर मजदूर से यूनियन में शामिल होने के लिए 10- 10 हजार रुपए मांगे और ऐसा न करने पर ‘देख लेने’ की धमकी दी। इस बारे में कंपनी की ओर से जया मनोज पवार (निवासी वडगांव शेरी, पुणे) ने रांजणगांव पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई। उनके साथ कंपनी के मजदूर कलिम बाबुलाल शेख, निसार अहमद सहमद अली, अमोल शिवाजी ठाणगे, इंद्रमनि लालनसिंग चंदेल, पंकज श्रीराजबलम मिश्रा से भी पैसों की मांग किये जाने की शिकायत की गई है। इससे कंपनी के मजदूरों में दहशत का माहौल बना है। आरोपियों ने कैलाश कदम के नेतृत्व में यूनियन के नाम पर गैंग तैयार की है, ऐसा पुलिस ने अपनी जांच में पाया। इसके चलते पुणे ग्रामीण पुलिस अधीक्षक संदीप पाटील, अपर अधीक्षक जयंत मीना, लोकल क्राइम ब्रांच के पुलिस निरीक्षक पद्माकर घनवट ने विशेष पुलिस महानिरीक्षक सुहास वारके से इस गैंग के खिलाफ मकोका की कार्रवाई करने का प्रस्ताव भेजा था। इसे मंजूरी मिलने के बाद सभी आरोपियों के खिलाफ मकोका की कार्रवाई की गई। ग्रामीण पुलिस के दौंड विभाग की उपविभागीय पुलिस अधिकारी ऐश्वर्या भारती मामले की जांच में जुटी हैं

You might also like