खाकी वर्दी में छुपे हुए इंसान ने संवारी नाबालिग लड़के की जिंदगी

0

पुणे : पोलीसनामा ऑनलाइन टीम – पुलिस को देखकर आम लोगों के मन में एक प्रकार का डर सा पैदा होता है लेकिन हम यह भुल जाते है कि पुलिस की खाकी वर्दी में भी एक इंसान छुपा होता है। पुलिस की इंसानियत के कई उदाहरण हम देखते है, सुनते है। ऐसा ही एक उदाहरण पुणे में हाल ही में देखने को मिला।

हड़पसर निवासी एक नाबालिग लड़का घर के हालात बिगड़ने की वजह से जुर्म के रास्ते चल पड़ा। पैसा कमाने के लिए वह कुख्यात कोयता गैंग में शामिल हुआ। उसका मकसद महज पैसा कमाना था। क्यों कि वह अपने परिवार के हालात सुधारना चाहता था लेकिन सहायक पुलिस निरीक्षक लोणार ने उसकी जिंदगी ही बदल दी। या यूं कहे कि उसकी जिंदगी संवर दी।

हड़पसर पुलिस थाने में बतौर सहायक पुलिस निरीक्षक कार्यरत लोणार के लिए किसी अपराधी से उसके जिंदगी की दास्तां सुनना नया नहीं है लेकिन जब उन्होंने कुछ दिन पहले उक्त नाबालिग लड़के के जिंदगी की हकीकत सुनीं तब उनमें छुपे हुए इंसान ने वर्दी को भुलाकर लड़के को जिंदगी जीने का सही रास्ता दिखाया। लड़के की मां मजदूरी कर अपने परिवार का गुजारा करती हैं। उसमें से कुछ रूपये बच जाते है तो वह बड़े बेटे की शिक्षा के लिए खर्च करती हैं। रूपयों की कमी के कारण ख्वाहिश होने के बावजूद भी लड़के को शिक्षा लेना मुमकिन नहीं था। इसलिए उसने आठवीं कक्षा में ही स्कूल की पढ़ाई अधूरी छोड़ी। उसके बाद वह रूपये कमाने के लिए छोटे मोटे काम करने लगा और एक दिन कुख्यात कोयता गैंग में शामिल हुआ।

लोणार ने ली शिक्षा की जिम्मेदारी
लड़के से उसके जिंदगी की हकीकत सुनने के बाद सहायक पुलिस निरीक्षक लोणार ने उसके शिक्षा की पूरी जिम्मेदारी स्वीकारी। इतना ही नहीं उसका मांजरी स्थित के. के. विद्यालय में दाखिला करवाया। उसे स्कूली सामग्री, यूनिफार्म खरीदकर दिया। अब लड़का अपना अतीत भुलकर अच्छी शिक्षा हासिल कर कुछ बेहतर कर दिखाने की लगन से नई जिंदगी जीने लगा है।

You might also like