Post_Banner_Top

दूसरे चरण के लिए राज्य की 10 सीटों पर मतदान आज 

0
मुंबई : पोलीसनामा ऑनलाईन – लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में राज्य की 10 सीटों (बुलढाना, अकोला, अमरावती, हिंगोली, नांदेड़, परभणी, बीड़, उस्मानाबाद, लातूर व सोलापुर) के लिए गुरुवार, 18 अप्रैल को वोटिंग होगी। मतदान से संबंधित सभी तैयारियां पूर्ण की गई हैं। 6 वर्तमान सांसदों सहित कुल 167 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला 1 करोड़ 54 लाख मतदाताओं के हाथ में है।

एक-दो अपवादों को छोड़कर अन्य स्थानों पर रोचक मुकाबला होने के आसार हैं। इस बार प्रकाश आंबेडकर के नेतृत्व वाली वंचित बहुजन आघाड़ी की धमाकेदार एंट्री से कई सीटों पर अप्रत्याशित परिणाम आने की संभावना है। दूसरे चरण में राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों सुशीलकुमार शिंदे व अशोक चव्हाण के राजनीतिक भविष्य का फैसला होगा। सोलापुर से वंचित बहुजन आघाड़ी के प्रकाश आंबेडकर की उम्मीदवारी से पूरे महाराष्ट्र की नजर इस संसदीय क्षेत्र पर लगी है। यहां मुख्य मुकाबला प्रकाश आंबेडकर बनाम सुशीलकुमार शिंदे के रूप में होगा। शिंदे की पूरी प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। उधर, नांदेड़ में भी अशोक चव्हाण की साख दांव पर है, जहां उनका मुख्य मुकाबला भाजपा के प्रताप पाटिल चिखलीकर व वंचित बहुजन आघाड़ी के प्रा। डॉ। यशपाल भिंगे से है।

अकोला संसदीय क्षेत्र से संजय धोत्रे (भाजपा), हिदायतुल्लाह बरकलउल्लाह पटेल (कांग्रेस), प्रकाश आंबेडकर (वंचित बहुजन आघाड़ी) व भाई बी।सी। कांबले (बसपा) चुनाव मैदान में हैं। हालांकि मुख्य मुकाबला संजय धोत्रे व हिदायतुल्लाह पटेल के बीच माना जा रहा है, लेकिन जमीनी तौर पर प्रकाश आंबेडकर के पक्ष में वातावरण बताया जा रहा है। दूसरे चरण की अधिकतर सीटों पर वंचित बहुजन आघाड़ी ङ्गडार्क हॉर्सफ के तौर पर उभरी है और पूरा पासा पलटने का माद्दा रखती है।

बहुप्रतिष्ठित क्षेत्र सोलापुर पर पूरे राज्य की नजर
सोलापुर एमपी सीट से कांग्रेस के सुशीलकुमार शिंदे, वंचित बहुजन आघाड़ी के एड्। प्रकाश आंबेडकर व भाजपा के जयसिद्धेश्वर शिवाचार्य चुनाव मैदान में हैं। यहां पर इन्हीं तीनों में त्रिकोणीय मुकाबला माना जा रहा है, लेकिन असली भिड़ंत भाजपा व वंचित बहुजन आघाड़ी के बीच बताई जा रही है। इस सीट पर पूरे महाराष्ट्र की नजर टिकी हुई है।

अमरावती में रोचक मुकाबले को लेकर उत्सुकता

अमरावती में इस बार रोचक मुकाबला है और इसे लेकर मतदाताओं में काफी उत्सुकता है। शिवसेना के वर्तमान सांसद आनंदराव अडसूल, नवनीत कौर-राणा (युवा स्वाभिमानी) व गुणवंत देवपारे (वंचित बहुजन आघाड़ी) के बीच कांटे की टक्कर है।

हिंगोली में कांग्रेस व शिवसेना के बीच टक्कर

हिंगोली में इस बार 28 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं, लेकिन असली मुकाबला कांग्रेस व शिवसेना के बीच है। बताया जा रहा है कि यहां इन दोनों उम्मीदवारों की जीत का गणित वंचित बहुजन आघाड़ी व बसपा को मिलने वाले रिस्पॉन्स पर टिका है। इस सीट से हेमंत पाटिल (शिवसेना), सुभाष वानखेड़े (कांग्रेस) व मोहन राठोड़ (वंचित बहुजन आघाड़ी) चुनाव मैदान में हैं। हालांकि मोहन राठोड़ ने भी अपनी जीत का दावा किया है। इसके अलावा बसपा के डॉ। दत्ता धनवे ने भी जोर लगाया है।

नांदेड़ में अशोक चव्हाण की प्रतिष्ठा दांव पर

नांदेड़ सीट से 14 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं, लेकिन असली आमना-सामना कांग्रेस के अशोक चव्हाण, भाजपा के प्रताप पाटिल चिखलीकर व वंचित बहुजन आघाड़ी के डॉ। यशपाल भिंगे के बीच है। चुनाव प्रचार में कांग्रेस आगे रही, लेकिन यहां असदुद्दीन ओवैसी की सभाओं ने माहौल को रोचक बना दिया है।

उस्मानाबाद संसदीय सीट से एनसीपी के राणा जगजीतसिंह पाटिल व उनके चचेरे भाई शिवसेना उम्मीदवार ओम राजेनिंबालकर में महासंग्राम होगा। बता दें कि दोनों परिवारों के आपसी बैर से सभी वाकिफ हैं तथा चुनाव प्रचार में भी यह शत्रुता देखने को मिली। इस सीट से वंचित आघाड़ी के अर्जुन सलगर, बसपा डॉ। शिवाजी ओमन आदि भी चुनाव मैदान में हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like