“शरद पवार को सूत्रधार की भूमिका नहीं निभानी चाहिए, इससे पुलिस का मनोबल गिर सकता है”: देवेंद्र फडणवीस

0

पुणे : पोलीसेनामा ऑनलाइन –राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने हाल ही में एल्गर काउंसिल मामले में, अपनी राय देते हुए कहा था कि,  पुणे पुलिस का व्यवहार आक्रामक था. पुलिस ने अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया है. पवार के इस बयान पर अब विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने निशाना साधते हुए कहा है कि, “शरद पवार को सूत्रधार की भूमिका नहीं निभाना चाहिए, इससे पुलिस का मनोबल गिर सकता है.”

देवेंद्र फडणवीस पुणे में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे। इस समय फडणवीस ने शरद पवार पर हमला करते हुए सवाल किया कि, सुधीर धवले और अरुण परेरा को गिरफ्तार किया गया, तब गृह मंत्री राकांपा के थे. वहीं 18 फरवरी 2014 को, जब मनमोहन सिंह सरकार की सरकार थी, तब माओवादी संगठनों की सूची में कबीर कला मंच का नाम था। इसका मतलब है कि, मनमोहन सरकार के दौरान की गई गिरफ्तारी सही है और हमारे समय में की गई गिरफ्तारी  जातिवाद कैसे हो सकती है?  वहीं उन्होंने कहा कि, इस मामले में शरद पवार की सुत्रधार की भूमिका निभाने से, पुलिस का मनोबल टूटेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि, अगर एफआईआर हुई होती, तो जांच की जाती.

बता दें कि भीमा कोरेगांव हिंसा के बाद हुए एल्गार सम्मेलन में शामिल हुए लोगों के खिलाफ की गई आपराधिक कार्रवाई पर एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने आक्रामक भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि, इस मामले में, पुणे पुलिस ने अपने अधिकारों का गलत फायदा उठाते हुए कई साहित्यकारों के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया है. यह  उनके अधिकारों का हनन है। पुणे पुलिस ने यह गलत काम किया है और इसकी जांच होनी चाहिए। साथ ही, एक विशेष एसआईटी की गठित कर, मामले की जाँच की जानी चाहिए. शरद पवार द्वारा यह मांग की गई है.

You might also like