बेटे को मिला था सरकारी काम का कांट्रेक्ट; मुंबई पुलिस कमिश्नर संजय बर्वे से ‘पूछताछ’ संभव !

0

मुंबई: पोलिसनामा ऑनलाईन –  मुंबई पुलिस कमिश्नर संजय बर्वे के रिटायरमेंट की तारीख पास आ गई है. ऐसे में उन पर पूछताछ के बादल मंडरा गए हैं. नागरीय सेवा नियमों के उल्लंघन मामले में बर्वे से पूछताछ करने के संकेत गृह मंत्रालय ने दिए हैं.

क्या है मामला

संजय बर्वे के बेटे  सुमुख और उनकी पत्नी के स्वामित्व वाली एक कंपनी को पुलिस रिकॉर्ड के डिजिटाइजेशन करने के प्रोजेक्ट का कांट्रेक्ट मिला था। बर्वे के बेटे ने साल 2013 में गृह मंत्रालय में यह काम पाने का प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। साल 2019 में विधानसभा चुनावों से पहले यह कांट्रेक्ट उन्हें मिल गया. पहले भी  कई कंपनियों को ऐसे कार्य दिए गए थे। हालांकि, इसमें सरकारी अधिकारियों के परिवार के सदस्य शामिल नहीं थे। कुछ तकनीकी कारणों से यह प्रोजेक्ट आगे नहीं बढ़ पाया. इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ा और  बर्वे के बेटे को सिविल सेवा नियमों का उल्लंघन करके कांट्रेक्ट देने का आरोप लगाया गया है.

गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक अब गृह मंत्री अनिल देशमुख द्वारा राज्य के पुलिस महानिदेशक सुबोध जायसवाल से इस केस से संबंधित रिपोर्ट मांगी गई है।

संजय बर्वे ने एक समाचार एजेंसी को बताया कि, “यह सही है कि मेरे बेटे की कंपनी को कांट्रेक्ट मिला था. हालांकि, यह काम मुफ्त में किया जाना था। उन्होंने आगे कहा कि इसमें कोई वित्तीय लेनदेन नहीं होना था और ना ही ऐसा हुआ.”

गृह विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बर्वे से इस बारे में पूछताछ की जा सकती है कि, उन्होंने सरकार को अपने परिवार के व्यवसाय के बारे में पहले सूचित किया था? सिविल सेवा शर्तों के तहत, सरकारी सेवा के अधिकारी-कर्मचारी पारिवारिक व्यवसाय के बारे में जानकारी देने के लिए बाध्य हैं। इन नियमों और शर्तों का उल्लंघन किया गया है या नहीं, इसकी जांच की जाएगी। पुलिस महानिदेशक की रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई होगी.

You might also like