मणिपुर में आज भाजपा सरकार का बहुमत परीक्षण, कांग्रेस ने जारी किया व्हिप

0

इम्फाल. ऑनलाइन टीम – मणिपुर में आज सोमवार को सरकार का बहुमत परीक्षण है। 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में कुल 60 सीटों में से कांग्रेस ने 28 सीटों पर जीत हासिल की थी और वह सदन में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। इन सदस्यों में से टी श्यामकुमार को भाजपा में शामिल होने के बाद दलबदल रोधी कानून के तहत विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य करार दिया गया। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने हाल ही में कांग्रेस के तीन और विधायकों के बीरेन सिंह, वाई सूरचंद्र सिंह और एस बीरा सिंह को भी अयोग्य करार दिया। प्रदेश कांग्रेस ने जुलाई में राज्य की एकमात्र राज्यसभा सीट पर हुए चुनाव में कथित तौर पर भाजपा उम्मीदवार के पक्ष में वोट डालने पर दो विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।

इस प्रकार 60 सदस्यों वाली विधानसभा से तीन विधायकों के इस्तीफे और चार सदस्यों के दलबदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य करार दिए जाने के बाद अब कुल 53 सदस्य हैं। बीजेपी अध्यक्ष तिकेंद्र सिंह ने विश्वास जताया कि उनकी सरकार बहुमत हासिल करेगी। उन्होंने 30 से अधिक विधायकों के समर्थन का दावा किया, जबकि गठबंधन के 29 विधायक हैं। बीजेपी और कांग्रेस ने विधायकों के लिए व्हिप जारी किया है। विधानसभा में बीजेपी के 18 और कांग्रेस के 24 विधायक हैं। कांग्रेस ने अपने 24 विधायकों को एक दिवसीय विधानसभा सत्र में शामिल होने और भाजपा नीत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन में मतदान करने के लिए व्हिप जारी किया है। कांग्रेस विधायकों ने इस संबंध में विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस दिया है।

बता दें कि बीजेपी की अगुआई वाली गठबंधन सरकार 17 जून को उस समय संकट में आ गई जब छह विधायकों ने समर्थन वापस ले लिया और तीन विधायक पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। हालांकि, नेशनल पीपल्स पार्टी (NPP) के चार विधायक बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं और मेघालय के मुख्य मंत्री कोनार्ड के संगमा के हस्तक्षेप के बाद लौट आए।

You might also like