मुंबई: देवेंद्र फ़ड़णवीस सरकार के दौरान एक्सिस बैंक की ओर झुकाव की टिप्पणी महाविकास आघाडी के नेताओ ने की थी। अब प्रत्यक्ष में जिन 15 प्राइवेट बैंक को सरकारी कर्मचारियो का वेतन देने की इजाजत राज्य के वित्त विभाग ने दी है उसमे एक्सिस बैंक का समावेश भी है।

एक्सिस बैंक में अधिकारी के तौर पर काम कर रही अमृता फडणवीस की वजह से फडणवीस सरकार के दौरान कुछ विभागों के खाते एक्सिस बैंक में खोले गए थे, ऐसा आरोप महाविकास आघाडी के नेता ने किया था। इस पर अमृता फडणवीस ने स्पष्ट किया था कि एक्सिस बैंक में मेरी शादी से पहले से ही सरकारी खाता है, जब से मैं अधिकारी बनी हूँ तब से नहीं। उनके और शिवसेना नेता के बीच ट्विटर पर विवाद भी हुआ था। प्राइवेट बैंक से कैसा प्यार, राष्ट्रीयकृत बैंक है न, ऐसा हल्लाबोल उस समय महाविकास आघाडी के नेता ने किया था।

शिवसेना की सत्ता वाले मुंबई और ठाणे मनपा के एक्सिस बैंक से अकाउंट हटाने की हलचल भी हुई थी। निधि व कर्मचारियों के वेतन व पेंशन सिर्फ राष्ट्रीयकृत बैंक में रखने की पहल की थी। वित्त विभाग ने गुरुवार को एक आदेश निकाला जिसमे सरकारी कर्मचारियों के वेतन, पेंशन, वितरण करने के लिए जिन 15 बैंकों को अनुमति दी है उसमे एक्सिस बैंक भी शामिल है। अन्य बैंक फेडरल बैंक, यस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक. एसबीएम बैंक, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी बैंक, आरबीएल बैंक, आईसीआईसीआई बैंक आदि शामिल है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *