Tik Tok पर लगेगा हमेशा के लिए ताला , सरकार ने किया नोटिस जारी

0

 पोलीसनामा ऑनलाइन – Tik Tok और Hello की बढ़ती हैसियत पर अब लगाम लगने के दिन आ गए है। सरकार ने आंखें तरारते हुए दोनों से कुछ सवाल पूछे है। अगर सवालों का ठीक-ठीक जवाब नहीं मिला तो टिकटॉक पर हमेशा के लिए ताला लग जाएगा।

सरकार ने चीनी सोशल मीडिया एप्स टिकटॉप, हेलो को नोटिस जारी किया है। सरकार ने इन एप्स से 21 सवाल पूछे हैं, और कहा कि अगर इनका उचित उत्तर नहीं मिला, तो इन्हें बैन किया जा सकता है। इससे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े संगठन ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से टिकटॉक और हेलो जैसी चीनी सोशल मीडिया एप पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। उनका आरोप था कि ये दोनों एप राष्ट्रविरोधी तत्वों का अड्डा बन गया है ।

शिकायत के बाद जारी किया नोटिस

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने यह नोटिस राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से संबंधित संगठन स्वदेशी जागरण मंच की प्रधानमंंत्री मोदी से शिकायत के बाद जारी किया है। मंत्रालय ने इन दोनों एप से इस आरोप पर भी जवाब मांगा है कि ये एप्स राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का अड्डा बन गए है । वहीं टिकटॉक के कहना है कि वे अगले तीन साल में स्थानीय कम्यूनिटी की जिम्मेदारी के लिये टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने को लेकर 100 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी।

स्वदेशी जागरण मंच ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

पीएम मोदी को लिखे पत्र में स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) के सह संयोजक अश्विनी महाजन ने दोनों एप को लेकर संगठन की चिंताएं रेखांकित की थी्ं। उनका आरोप था दोनों एप भारत के युवाओं के मनिहित हितोंफ से प्रभावित होने का माध्यम बन रहे हैं, और हाल के सप्ताहों में टिकटॉक राष्ट्रविरोधी सामग्री का अड्डा बन गया है, जिसे एप पर व्यापक रूप से साझा किया जा रहा है जो हमारे समाज के तानेबाने को नुकसान पहुंचा सकता है।

चुनाव आयोग को भी लिखे थे पत्र

इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि Tik Tok एप द्वारा अन्य सोशल मीडिया मंचों पर 11 हजार से अधिक विरूपित राजनीतिक विज्ञापनों के लिए सात करोड़ रुपये का भुगतान करने का पता चला है। उन्होंने कहा, विज्ञापनों में से कुछ में वरिष्ठ भारतीय नेताओं की विरूपित की गई तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया। भाजपा के पदाधिकारियों ने स्वयं पिछले आम चुनावों के दौरान इन चिंताओं को लेकर चुनाव आयोग को पत्र लिखे थे।

देश में उत्पन्न हो सकती हैं सामाजिक उथल-पुथल

उनकी मांग है की गृह मंत्रालय देश में मटिकटॉकफ और महेलोफ सहित अन्य चीनी एप पर प्रतिबंध लगाए्। स्वदेशी जागरण मंच के सह संयोजक ने दावा किया कि टिकटॉक और चीन सरकार के हस्तक्षेप के गठजोड़ का इस्तेमाल भारतीय नागरिकों के निजी जीवन तक पहुंच बनाने और देश में सामाजिक उथल-पुथल उत्पन्न करने के लिए किया जा सकता है।

मद्रास हाईकोर्ट ने लगाया था बैन

इससे पहले इसी साल अप्रैल में मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को आदेश दिया था कि सरकार टिकटॉक की डाउनलोडिंग पर रोक लगाए्। इसके अलावा कोर्ट ने यह भी कहा था कि सरकार टिकटॉक के वीडियो को फेसबुक जैसे अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर होने पर भी रोक लगाए्। कोर्ट ने सरकार से पूछा था कि क्या वह ऐसा कोई कानून लाएगी जिससे बच्चों को साइबर क्राइम से बचाया जा सके और उन्हें दूर रखा जा सके।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like