निर्भया गैंगरेप के अपराधियों को फांसी की तैयारी शुरू, ‘इस’ दिन चढ़ाए जाएंगे सूली पर

0

मेरठ :  पॉलीसेनामा ऑनलाईन – दिल्ली के बेहद खौफनाक निर्भया गैंग रेप के आरोपियों की जिंदगी की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. क्योंकि इनको फांसी पर लटकाने की सजा अब मुकर्रर हो चुकी है. जी हां, बताया जा रहा है कि 16 दिसंबर को सभी को फांसी दी जा सकती है, जिसके मद्देनजर फांसी देने वाली जगह की साफ़-सफाई शुरू कर दी गई है. इस बीच, जानकारी मिल रही है कि निर्भया रेप केस के आरोपी पवन को मंडोली जेल से तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया है.

बता दें कि एक दोषी विनय शर्मा की तरफ से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास दाखिल की गई दया याचिका को गृह मंत्रालय द्वारा नामंजूर करने की सिफारिश की गई है.  इस बीच, खबर है कि मामले के दोषी पवन को मंडोली जेल से तिहाड़ शिफ्ट किया गया है.

एक बलात्कारी दोषी की हो चुकी है मौत
बता दें कि निर्भया बलात्कार कांड के 6 आरोपियों में से एक की जेल में ही मौत हो चुकी है, जबकि एक नाबालिग दोषी सजा काटकर जेल से बाहर आ चुका है. बाकि 4 दोषियों की दया याचिका राष्ट्रपति के पास विचारणीय है. इस कारण से दोषियों के खिलाफ आगे की कोई कार्रवाई नहीं हो पाई. हालाँकि आशा जताई जा रही है कि गृह मंत्रालय की सिफारिश के बाद राष्ट्रपति जल्द ही दया याचिका को रद्द कर सकते हैं, जिसके बाद दोषियों को फांसी पर लटकाने से कोई नहीं बचा सकता.

पवन जल्‍लाद दे सकते हैं फांसी
बता दें कि अभी कुछ दिन पहले मेरठ के पवन जल्लाद ने निर्भया के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी देंने की मांग की थी. साथ ही कहा था कि उन्हें दोषियों को फांसी पर चढ़ाने का मौका दिया जाए. इसलिए माना जा रहा है कि पवन ही इन गुनाहगारों को फांसी दे सकते हैं. हालाँकि अभी तक आधिकारिक तौर पर पवन से इसके लिए संपर्क नहीं किया गया है.

फांसी से पहले होता है ट्रायल
पवन जल्लाद ने जानकारी दी कि दोषी को फांसी देने से पहले ट्रायल किया जाता है. वह इसलिए कि फांसी देते समय कोई गलती न हो सके.

क्या है मामला  

दिल्ली का दर्दनाक निर्भया गैंगरेप रेप पूरे देश सहित दिल्ली के चेहरे पर एक बदनुमा दाग की तरह बन गया है. फिल्म देखने के बाद अपने पुरुष मित्र के साथ बस में सवार होकर मुनिरका से द्वारका जा रही निर्भया को क्या पता था कि जिस बस में वह चढ़ी है वह उसे घर तक नहीं बल्कि मौत के मुंह में ला जाने वाली है. रात के अँधेरे में उस चलती बस में पांच बालिग और एक नाबालिग दरिंदे ने 23 साल की निर्भया के साथ हैवानियत का जो खेल खेला, उसे जानकर हर देशवासी का कलेजा कांप उठा था. वह युवती पैरामेडिकल की छात्रा थी. रेप करने के दौरान उसके साथ जानवरों से भी बत्तर व्यवहार किया गया कि, कई दिनों तक मौत से लड़ने के बाद उसने दुनिया छोड़ दी.

You might also like