कोरेगांव-भीमा की जांच कभी भी केंद्र के हाथों में नहीं दी जाएगी : उद्धव ठाकरे

0

सिंधुदुर्ग: पोलिसनामा ऑनलाइन – कोरेगांव-भीमा हिंसा और एल्गार  परिषद् दो अलग-अलग मामलें हैं। केंद्र सरकार ने एल्गार परिषद की जांच अपने पास ले ली है। लेकिन कोरेगांव-भीमा की नहीं. कोरेगांव-भीमा में दलित भाइयों पर अत्याचार किया गया, इसलिए इसकी जाँच किसी भी परिस्थिति में केंद्र के हाथों में नहीं दी जाएगी. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह स्पष्ट किया है.

सिंधुदुर्ग में मीडिया से बातचीत करते हुए उद्धव ठाकरे ने कोरेगांव-भीमा मामले पर अपनी भूमिका स्पष्ट कर दी है. उद्धव ठाकरे ने कहा कि, मेरे दलित भाई का मुद्दा भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा का है. मैंने भीमा कोरेगांव की जाँच केंद्र को नहीं दी है और केंद्र को दूँगा भी नहीं.

इस बीच, राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार की अध्यक्षता में राकांपा की एक बैठक कल आयोजित हुई थी.  इसमें एल्गार परिषद और कोरेगांव-भीमा मामले पर चर्चा की गई। चर्चा है कि एनसीपी इस मुद्दे पर शिवसेना से नाराज है. इस पृष्ठभूमि पर,  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह बयान दिया है। इसलिए अब यह देखना दिलचस्प होगा कि एल्गार परिषद मामले में राष्ट्रवादी क्या भूमिका निभाती है.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि एनआरसी, सीएए और एमपीए तीनों ही अलग-अलग विषय हैं. साथ ही उन्होंने इस मुद्दों पर अपनी भूमिका भी स्पष्ट की.

You might also like