Post_Banner_Top

लोकसभा चुनाव परिणाम का चीन को है बेसब्री से इंतजार, पीएम मोदी के बारें में चीनी मीडिया में है सकारात्मक सोच 

0
नई दिल्ली : पोलीसनामा ऑनलाईन – देश में लोकसभा का चुनाव खत्म हो चुका है और लोगों को अब परिणाम का इंतजार है । 23 मई को चुनाव परिणाम भी आ जायंगे। लेकिन चुनाव परिणाम से  तमाम न्यूज़ चैनल ने एक बार फिर से मोदी सरकार के आने की संभावना जता दी है । इसे लेकर देश और विदेश में अभी से नई सरकार को लेकर अपनी अपनी राय दी जा रही है । देश में जहां नरेंद्र मोदी की वापसी को लेकर हलचल दिखाई दे रहा है वही विदेशी मीडिया में भी इसे लेकर जोरदार चर्चा हो रही है । पीएम मोदी के फिर से प्रधानमंत्री बनने की संभावना पर चीन ने भी नज़रें बना रखी है । इसके पीछे कई वजह बताई जा रही है ।
चीन के साथ भारत के बेहतर संबंध 
चीनी मीडिया में दोनों देशों के संबंधों को लेकर खास उत्सुकता दिखाई देती है । चीनी अख़बार निक्केई एशियन रिव्यु के मुताबिक एग्जिट पोल में भाजपा फिर से सरकार बनाने जा रही है । ऐसे में यह साफ है कि भारत चीन के साथ बेहतर संबंध बनाएं रखना चाहेगा। इसके अलावा व्यापार को बढ़ाने की दिशा में भारत चीन के साथ आगे बढ़ेगा। वहीं चाइनीज एसोसिएशन फॉर साउथ एशियनस्टडीज के शोधकर्ता कियान फेंग ने चीनी सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स से बात करते हुए कहा कि यदि एग्जिट पोल के नतीजे हकीकत में बदलते है तो मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनेंगे। ऐसे में भारत और चीन का रिश्ता सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ेगा। कियान ने अपनी बातचीत में आगे कहा कि यदि किसी परिस्थिति में मोदी नहीं जीतते हैं और कांग्रेस सत्ता में वापसी करती तो चीन के साथ भारत के संबंधों में कोई बदलाव नहीं आएगा। क्योकि चीन के साथ बेहतर संबंध भारत के हित में है ।
आतंकवाद पर भारत चीन का रुख महत्वपूर्ण 
चीनी मीडिया में मोदी सरकार के वापसी को लेकर उत्साह देखा जा रहा है । चीन को मोदी सरकार से काफी उम्मीदें है । ग्लोबल टाइम्स मोदी सरकार के वापसी को लेकर लिखता है कि यदि मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनते हैं  तो राष्ट्रीय हितों को प्राथमिकता देंगे और चाइना कार्ड खेलने से बचेंगे। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में बीजिंग ने कोई ऐसा काम नहीं किया है जिससे भारत के किसी हित को नुकसान पहुंचा हो । ऐसे  भारत चीन के संबंधों में कोई बाधा नहीं आएगी।
कुछ पश्चिमी देश भारत और चीन के रिश्ते से खुश नहीं 
ग्लोबल टाइम्स ने भारत चीन के आतंकवाद पर स्टैंड को लेकर भी बहुत कुछ लिखा है । लिखा है कि दोनों ही देश आतंकवाद के खिलाफ है । अख़बार ने हाल ही में मसूद अजहर को आतंकवादी घोषित किये जाने के भी जिक्र किया हैं । अख़बार ने तंज कसा है कि कुछ पश्चिमी देश भारत और चीन के बीच के अच्छे रिश्ते को देखना नहीं चाहता है । जबकि भारत और चीन आतंकवाद पर एक विचार रखते हैं ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like