राज्यपाल नियुक्त सदस्य, नाम फाइनल करने का मुख्यमंत्री के पास सर्वाधिकार

0

मुंबई, 30 अक्टूबर – राज्यपाल के जरिये विधान परिषद् में नियुक्त होने वाले 12 सदस्यों का नाम फाइनल करने का पूरा अधिकार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को दिया गया है। विधान परिषद् में कोई 12 सदस्यों की नियुक्ति की शिफारिस मंत्रिमंडल दवारा की जाती है। इसे लेकर मंत्रिमंडल के सामने प्रस्ताव रखा गया था। कांग्रेस, राष्ट्रवादी और शिवसेना इन तीनों दलों में नाम को लेकर काफी सरगर्मी चल रही है। राज्यपाल के पास जब तक नामों की सूची जाती नहीं है तब तक इस विषय में तर्क-वितर्क करने का कोई मतलब नहीं है। एक सीनियर नेता ने यह बात कही है।

कांग्रेस ने अपने चार नाम की सूची मुख्यमंत्री ठाकरे को दी है। लेकिन फिर भी इस विषय में कांग्रेस कुछ बोलने को तैयार नहीं है । राष्ट्रवादी के प्रदेशाध्यक्ष जयंत पाटिल मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सांगली रवाना हो गए। जबकि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात बैठक के बाद वर्षा सरकारी निवेश पर मुख्यमंत्री से मिलने गए थे। इसलिए ये चर्चा है कि थोरात ने कांग्रेस के चार नाम मुख्यमंत्री को सौंपा है। प्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस के ये चार नाम दिल्ली से आने की बात कही जा रही है।

राष्ट्रवादी के नाम पार्टी अध्यक्ष शरद पवार, अजीत पवार और जयंत पाटिल के बीच होने वाली बैठक में निश्चित होगी। जबकि शिवसेना के नाम मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे खुद निश्चित करेंगे। शुक्रवार से रविवार तीन दिनों तक मंत्रालय की छुट्टी है। इसलिए इस विषय पर अब सीधे सोमवार को चर्चा होगी। सोमवार को शायद मुख्यमंत्री दवारा राज्यपाल को 12 नामों की सूची भेजी जाएगी। राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में 12 नाम का प्रस्ताव मंजूर किया गया। नाम को गुप्त रखा गया है।

You might also like