मुंबई. ऑनलाइन टीम : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार किसानों के बीच पहुंच गए हैं। शिवसेना नेता और कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने अपने प्रतिनिधि को भेजा  है। वहीं कांग्रेस की तरफ से भी किसी नेता के यहां आने की आशंका है। बता दें कि विभिन्न इलाकों से किसान नासिक में जमा हुए और शनिवार को मुंबई के लिए रवाना हुए, यात्रा के दौरान रास्ते में और किसान जुड़े।

किसानों ने रात्रि विश्राम के लिए इगतपुरी के पास घाटनदेवी में पड़ाव डाला था। एआईकेएस की महाराष्ट्र शाखा ने एक बयान जारी कर दावा किया था कि नासिक से करीब 15 हजार किसान शनिवार को टैंपो और अन्य वाहनों से मुंबई के लिए रवाना हुए हैं। केंद्र सरकार के तीन कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली के अलावा  मुंबई में भी आंदोलन हो रहा है।

बता दें कि राज्य सरकार में सहयोगी कांग्रेस की राज्य इकाई पहले ही इस रैली का समर्थन कर चुकी है। ऐसा माना जा रहा है कि इसके जरिए तीनों सत्ताधारी पार्टियां राज्य के ग्रामीण इलाकों में अपना सियासी आधार मजबूत करने की कोशिश में हैं। सियासी पैंतरेबाजी शुरू है। दल इसमें अपना हिस्सा तलाश रहे हैं। बहती गंगा में हाथ धोने की तर्ज पर राजनीतिक दल किसानों के साथ हो रहे हैं। इस आंदोलन की खास बात ये है कि राज्य सरकार के भी प्रतिनिधि यहां पहुंच रहे हैं।

किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल  राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ज्ञापन सौंपने वाला है। योजना के अनुसार,  गणतंत्र दिवस के मौके पर आजाद मैदान में झंडा फहराएंगे।  रैली के मद्देनजर पुलिस ने दक्षिण मुंबई स्थित आजाद मैदान और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा की विशेष तैयारी की है और राज्य रिजर्व पुलिस बल (एसआरपीएफ) के जवानों की तैनाती की गई है, इसके साथ ही ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *