पुणे : युवा सेना पदाधिकारी दीपक मारटकर हत्या प्रकरण – कुख्यात गुंडा बापू नायर से आरोपियों को ससून में मुलाकात की परमिशन देने वाले 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड, जाने नाम

0

पुणे, 30 अक्टूबर – पुणे में हड़कंप मचा चुके युवा सेना के पदाधिकारी दीपक मारटकर की हत्या प्रकरण में कुख्यात गुंडा बापू नायर के कहने पर हत्या होने की बात स्पष्ट होने के बाद अब इस मामले में पुणे पुलिस दल के 6 कर्मचारियों को जल्दी-जल्दी में ससपेंड कर दिया गया है। बुधवार को निलंबन का आदेश दिया गया। लेकिन नाम और निलंबन की जानकारी बाहर नहीं आ पाए इसलिए खास मेहनत की जा रही थी।

इस मामले में कोर्ट कंपनी के पुलिस हवलदार सुभास ननावरे, कर्मचारी सुधीर कुठवड, सूर्यकांत मानकुमरे, रोहित ओवल, भीमाशंकर ठानेदार और संजय चव्हाण को सस्पेंड किया गया है। सुभास ननावरे पुलिस हवलदार है। रेलवे पुलिस से वह पुणे पुलिस में ट्रांसफर होकर आये है। अन्य कर्मचारी 2016 के बैच के है। मिली जानकारी के अनुसार युवा सेना के पदाधिकारी दीपक मारटकर को 10 लोगों ने मिलकर कोयते से वार कर हत्या कर दी थी। पुणे पुलिस ने इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। उनसे पूछताछ के बाद कुख्यात गुंडा बापू नायर के कहने पर हत्या होने की बात सामने आई है। इस हत्या के आरोपियों दवारा बापू नायर से ससून हॉस्पिटल में मिलने की जानकारी भी सामने आई है। बापू नायर फ़िलहाल जेल में बंद है। इलाज के लिए वह ससून हॉस्पिटल आया था। इसी दौरान आरोपियों ने उससे मुलाकात की थी। इसके बाद हत्या की इस बारदात को अंजाम दिया गया।

बापू नायर के लिए कोर्ट कंपनी के कर्मचारियों का बंदोबस्त था। दो से तीन दिन ये बंदोबस्त था। पुलिस का बंदोबस्त होने के बाद भी आरोपियों ने नायर से कैसे मुलाकात कर ली ? यह सवाल खड़ा हो रहा है। अधिकारियों ने इसकी जांच की। जांच में पता चला कि उस वक़्त ये सभी लोग ड्यूटी पर थे। इसके बाद ही यह निलंबन की कार्रवाई हुई है।

अंत तक जानकारी छिपाने का प्रयास
ससून हॉस्पिटल में मुलाकात और उसके बाद हुई जांच व निलंबन के मामले को सीनियर अधिकारियों दवारा छिपाने का प्रयास किया गया।

You might also like