Society of Automotive Engineers

सोसायटी ऑफ ऑटोमोटिव्ह इंजिनिअर्स द्वारा ‘ऑटोमोटिव्ह फ्युचर ट्रेंड्स’ पर सेमिनार

पुणे : पुलिसनामा ऑनलाइन – Pune News | “उन्नत तकनीक, इनोवेशन की मदद से टिकाऊ ईंधन पर चलने वाली वाहनों का उत्पादन किया जा रहा है. सड़कों की गुणवत्ता बढ़ रही है. इलेक्ट्रिक वाहन बड़ी संख्या में सड़कों पर आ रहे हैं और इसके लिए पूरक बुनियादी ढांचे के निर्माण के प्रयास किये जा रहे हैं। भविष्य में कार्बन मुक्त और दुर्घटना मुक्त परिवहन व्यवस्था बनाने पर जोर दिया जा रहा है,” ऐसी राय ऑटोमोटिव्ह रिसर्च असोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआय) के संचालक डॉ. रेजी मथाई ने रखी.

सोसायटी ऑफ ऑटोमोटिव्ह इंजिनिअर्स (एसएई) इंडिया और ऑटोमोटिव्ह रिसर्च असोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआय) के संयुक्त तत्वाधान में ऑटोमोटिव्ह क्षेत्र में नए ट्रेंड्स के ऊपर सेमिनार का आयोजन किया गया था. होमियोपॅथ व काऊन्सलर डॉ. मीनल सोहोनी, ‘एआरएआय’ की उपसंचालिका उज्ज्वला कार्ले, फोर्स मोटर्स के डॉ. बाळासाहेब शिंदे, सागे इंजिनिअरिंग कन्सल्टन्सी के महेश शिंदे, एमआयटी विश्वशांती विद्यापीठ के संशोधक प्राध्यापक डॉ. आनंद कुलकर्णी ने इस सेमिनार में मार्गदर्शन किया.

कर्वे रोड स्थित हॉटेल प्रेसिडेंट में हुए इस सेमिनार के उद्द्घाटन के अवसर पर व्हेक्टर इंजिनिअरिंग सोल्युशन्स के संचालक एन. पी. वाघ, ‘एआयएसएसएमएस’ के सहयोगी प्राध्यापक डॉ. अविनाश वाघमारे, स्पेक्ट्राटेक के संचालक केशव ताम्हणकर, ‘एसएई’ वेस्टर्न सेक्शन के सदस्य प्रकाश सरदेसाई, संजय निबंधे, एन. के. वैद्य, कार्यकारी संचालक रमेश पसरीजा, सहायक संचालक मोहन पाटील, व्यवस्थापक परेश शितोळे, सागर मुरुगकर व ओंकार देशपांडे आदी उपस्थित थे. इस समय ‘एसएई’ द्वारा लिए गए प्रतियोगिताओं का पारितोषिक वितरण किया गया.

डॉ. रेजी मथाई ने कहा, “संचार को अधिक कुशल बनाने के लिए ‘विज़न ज़ीरो’ और ‘नेट ज़ीरो’ अवधारणाओं को लागू किया जा रहा है। ट्रांसपोर्ट से जुड़े नियमों के साथ-साथ चार्जर, बैटरी में भी इनोवेशन चल रहा है। इलेक्ट्रॉनिक और सॉफ्टवेयर का उपयोग बढ़ाकर कार्बन मुक्त और दुर्घटना मुक्त परिवहन कैसे बनाया जाए, इस पर चर्चा हो रही है और हमें उस पद्धति के लिए नीतियां बनानी होंगी। इसी तरह ‘ई-२०’ को २०२५ में लॉन्च किया जाएगा. हाइड्रोजन ईंधन को आगे बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है. वैश्विक स्तर पर लागू हो सके, ऐसे नियम तैयार किये जा रहे हैं.”

डॉ. मीनल सोहोनी ने तनावमुक्त जीवन कैसे जिए, इस बारे में मार्गदर्शन किया. कार्यकुशलता बढ़ाने के लिए मन की शांति आवश्यक है और काम की भागदौड़ से कुछ समय अपने लिए भी निकालना चाहिए। उचित व्यायाम, प्राणायाम के महत्व पर बल दिया। प्रा. डॉ. अविनाश वाघमारे ने ‘एसएई’ द्वारा आयोजित प्रतियोगिताओं की जानकारी दी. रमेश पसरीजा ने स्वागत-प्रास्ताविक किया. अनिता वर्मा ने सूत्रसंचालन किया. एन. पी. वाघ ने आभार ज्ञापित किए.

Pune Kondhwa Crime | बीच सड़क महिला से छेड़छाड़, कोंढवा भाग की घटना

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *