नई दिल्ली, 12 जून : देश में कोरोना संकट का सामना करने के दौरान कई चौंकाने वाली घटना सामने आ रही है।  इसी तरह की एक भयानक घटना घटी है।  अंधश्रद्धा ने एक छोटे बच्चे की बलि ले ली है।  उत्तर प्रदेश के बरेली से मन को सन्न कर देने वाली घटना सामने आई है।  एक पांच वर्षीय बच्चे को करंट लग गया था।  लेकिन इस घटना के बाद उसे तुरंत हॉस्पिटल न ले जाकर उसका घरेलु उपचार करने का प्रयास किया गया।  इसी दौरान उसकी मौत हो गई। करंट लगा इसलिए बच्चे को जमीन के नीचे दबा कर रखने की चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है।

मिली जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश के बरेली के शिशगढ परिसर में यह दर्दनाक घटना घटी है।  यहां पर ई-रिक्शा चलाने वाले भूपेंद्र का रिक्शा घर के बाहर चार्ज हो रहा था।  इसी दौरान उनका बेटा किसी वजह से वहां आया।  खुले तार के संपर्क में आने से उसे जोर से झटका लगा।  इसलिए उसे तुरंत हॉस्पिटल ले जाने की जरुरत थी।  लेकिन उसके बदले परिवार ने घर पर ही उसका उपचार शुरू कर दिया।  उसे हॉस्पिटल ले जाने की बजाय जमीन में दबा कर रखा गया।

उसे करीब एक घंटे तक ऐसे ही रखा गया।  इस दौरान बच्चे को काफी परेशानी हो रही थी. लेकिन इसके बावजूद उसे इसी अवस्था में रखा गया। इसके बाद भी जब उसकी तकलीफ कम नहीं हुई तो उसे हॉस्पिटल ले जाया जा रहा था।  लेकिन हॉस्पिटल जाने से पहले ही रास्ते में उसकी मौत हो गई।  जानकारी मिली है कि एक रिश्तेदार के कहने पर उसे जमीन में दबा कर रखा गया था। लेकिन अगर उसे हॉस्पिटल लेकर गए होते तो उसकी जान बच सकती थी।  इस घटना का फोटो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है।

नाबालिग के साथ 7 लोगों ने किया दुष्कर्म

एक 10 वर्षीय लड़की के साथ स्कूल परिसर में 7 लोगों दवारा बलात्कार करने की शर्मनाक घटना सामने आई है।  खास बात ये है कि इसमें से 6 लोग नाबालिग है।  आरोपियों ने इस घटना का वीडियो बनाकर व्हाट्सअप पर भेजा था। वायरल वीडियो लड़की के पिता ने देखी तो वह शॉक रह गए।  इसके बाद यह पूरी घटना सामने आई।  वीडियो देखने के बाद लड़की के पिता ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है।  पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *